भारत जोड़ो यात्रा “सिख-विरोधी, राष्ट्र-विरोधी और शांति-विरोधी”: जयवीर शेरगिल

भारत जोड़ो यात्रा और कुछ नहीं बल्कि राहुल गांधी को व्यस्त रखने का पीआर स्टंट है: भाजपा
शेरगिल ने पंजाब के लोगों से यात्रा का बहिष्कार करने का आह्वान किया
श्री स्वर्ण मंदिर में राहुल गांधी को जरूर जवाब देना चाहिए कि क्यों अब तक जगदीश टाइटलर को कांग्रेस से निकाला नहीं गया है: शेरगिल

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय प्रवक्ता जयवीर शेरगिल ने भारत जोड़ो यात्रा के पंजाब में प्रवेश करने से ठीक पहले राहुल गांधी पर तीखा हमला बोलते हुए, कहा है कि यात्रा का एकमात्र संदेश नफरत, भारत विरोधी भावना को फैलाना और राजनीतिक हताशा है।

एक तीखे बयान में शेरगिल ने कहा कि कांग्रेस और राहुल गांधी की सिख विरोधी भावना खत्म नहीं हुई है। बल्कि समय के बीतने के साथ यह केवल और बढ़ी है।

कांग्रेस पार्टी की आलोचना करते हुए शेरगिल ने कहा कि एक तरफ देश देख रहा है कि भाजपा सिख समुदाय का सम्मान कर रही है। उनकी भावनाओं का आदर करते हुए 26 दिसंबर (चार साहिबजादों के शहादत दिवस) को ‘वीर बाल दिवस’ के रूप में समर्पित किया गया है, श्री करतारपुर कॉरिडोर शुरू किया गया है और श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी के पावन स्वरूपों को युद्धग्रस्त अफगानिस्तान से सुरक्षित लाया गया है। दूसरी ओर, कांग्रेस जगदीश टाइटलर जैसे 1984 के सिख नरसंहार के लिए जिम्मेदार लोगों को भारत जोड़ो यात्रा की तैयारी के लिए बुलाई गई बैठक में आमंत्रित करके और उसे दिल्ली नगर निगम चुनाव के लिए चुनाव समिति का सदस्य बनाकर बेशर्मी के साथ व खुलेआम उसकी ताजपोशी कर रही है। सिख विरोधी होना कांग्रेस पार्टी का असली चरित्र है।

MUST READ  Sky is the Limit to India’s Soft Power

शेरगिल ने यात्रा को पूरी तरह से “दिशाहीन” और राहुल गांधी द्वारा सिर्फ सत्ता की लालच में अपनी बयानबाजी व नाटकीयता से लोगों को मूर्ख बनाने का एक “हताश प्रयास” बताते हुए, कहा कि पंजाब के लोग यह नहीं भूले हैं कि कैसे कांग्रेस ने ऑपरेशन ब्लूस्टार के दौरान टैंकों और मोर्टार के साथ सिखों के सर्वोच्च धार्मिक स्थल (श्री स्वर्ण मंदिर) को ध्वस्त कर दिया था।

शेरगिल ने कहा कि वर्ष 1984 में जो हुआ, वह सिख विरोधी दंगे नहीं थे, बल्कि कांग्रेस पार्टी द्वारा सिखों का एक “सुनियोजित नरसंहार” था और सिख समुदाय के घावों पर नमक छिड़कने के लिए, कांग्रेस लगातार 1984 के खून खराबे के अपराधियों (जगदीश टाइटलर और सज्जन कुमार) की ताजपोशी कर रही है।

MUST READ  ਲੜਕੀਆਂ ਨੂੰ ਗੱਤਕਾ ਖੇਡਣ ਪ੍ਰਤੀ ਪ੍ਰੇਰਿਤ ਕਰਨ ਉਪਰ ਦਿੱਤਾ ਜ਼ੋਰ

उन्होंने कहा कि जब कांग्रेस ने सिख समुदाय को अलग-थलग करने की कोई कोशिश नहीं छोड़ी है, इसलिए राहुल के पास पंजाब में यात्रा निकालने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है। शेरगिल ने पंजाब के लोगों से यात्रा का पूरी तरह से बहिष्कार करने की जोरदार अपील की है। उन्होंने यह भी मांग की है कि श्री स्वर्ण मंदिर में राहुल गांधी को जरूर जवाब देना चाहिए कि क्यों अब तक जगदीश टाइटलर को कांग्रेस से नहीं निकाला गया है।

कांग्रेस के खिलाफ अपने हमले को जारी रखते हुए शेरगिल ने आगे कहा कि भारत जोड़ो यात्रा की शुरुआत के बाद से समाज में दरार पैदा करने का प्रयास किया गया है। सबसे पहले कांग्रेस ने ‘खाकी शॉर्ट्स’ को जलाए जाने की वायरल तस्वीरें जारी कीं। इसके बाद दूसरा निंदनीय कार्य राहुल गांधी की रोमन कैथोलिक पादरी जॉर्ज पोन्नैया से मुलाकात थी, जिन्होंने हमेशा भारत के खिलाफ शब्दों का इस्तेमाल किया है और हिंदू देवी-देवताओं की छवि को धूमिल किया है। जॉर्ज पोन्नैया ने ही कहा था, ‘हम जूते पहनते हैं। क्यों? क्योंकि भारत माता की अशुद्धता से हम दूषित नहीं होने चाहिएं। तीसरा, जगदीश टाइटलर जैसे लोगों की ताजपोशी करना, जिसके बारे में हम पहले ही जिक्र कर चुके हैं।

MUST READ  Talent of recruiting global talents for Australia: Amitava Deb

शेरगिल ने यह भी कहा कि भारत जोड़ो यात्रा चीन समर्थक है और राहुल गांधी का कथन कि चीन के सैनिक हमारे जवानों को पीट रहे हैं, चीन के इस दावे को बल देने का एक प्रयास है कि भारतीय सैनिकों पर चीनी सैनिकों का पलड़ा भारी है। हैरानीजनक है कि चीन को बढ़त दिलाने के लिए, राहुल गांधी ने चीन की घुसपैठ के लिए भारत के घरेलू मुद्दों को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने यहां तक कहा कि भारत बिना विजन वाला एक भ्रमित राष्ट्र है, जो सिर्फ उनकी राजनीतिक हताशा को दर्शाता है।

कांग्रेस पार्टी पर तंज कसते हुए शेरगिल ने यह भी कहा कि भारत जोड़ो यात्रा और कुछ नहीं, बल्कि राहुल गांधी को व्यस्त रखने के लिए एक महंगा पीआर स्टंट है, जिसका उन्हें कोई राजनीतिक लाभ नहीं मिलेगा।